बहरीन से कवयित्री गरिमा सूदन द्वारा लाइव काव्य पाठ..! Live Poetry recitation by poetess Garima Sudan from Bahrain ..! – NANDED TODAY NEWS
You are here
Home > Daily News > बहरीन से कवयित्री गरिमा सूदन द्वारा लाइव काव्य पाठ..! Live Poetry recitation by poetess Garima Sudan from Bahrain ..!

बहरीन से कवयित्री गरिमा सूदन द्वारा लाइव काव्य पाठ..! Live Poetry recitation by poetess Garima Sudan from Bahrain ..!

Spread the love

NANDED TODAY INDIA : 28,May,2021 (सरिता त्रिपाठी पत्रकार नांदेड़ टुडे,लखनऊ, उत्तर प्रदेश, इंडिया) कवयित्री सरिता त्रिपाठी जी के फेसबुक पेज (@srtchem) पर बहरीन से कवयित्री गरिमा सूदन जी ने अपनी हिन्दी कविताओं की लाइव प्रस्तुति दी। गरिमा जी की कविताएँ दिल को छू लेने वाली थी और उनका वाचन बहुत ही कबीले तारीफ रहा। श्रोता गणों ने उनकी कविताओं का रस बहुत ही सौहार्यादय पूर्वक लिया और अपने कंमेंट्स के माध्यम से उनका उत्साहवर्धन किया।

श्रोतागण में गरिमा जी के परिवार से सभी लोग जुड़े हुए थे और उनके दोस्तों ने भी कविताओं का तहेदिल से रसपान किया। अंजली जी, निवेदिता जी, पुष्पा जी, दीप्ति जी और सरिता जी ने लगातार अपनी प्रतिक्रिया के माध्यम से कार्यक्रम में चार चाँद लगाये रखा। कुछ तकनीकी व्यवधान के चलते बहुत से लोग लाइव में नहीं जुड़ पाये, पर उन सभी लोगों ने भी बाद में कविता पाठ का आनंद लिया।

गरिमा जी को कविता लिखने का हुनर बचपन से था और यह उन्होंने अपने पिता श्री गुरूपाल सिंह सूदन जी से मिला, पर पिछले साल लॉक डाउन से उन्होंने अपने हुनर को नया मुकाम दिया। वह एक शिक्षिका हैं और बहरीन में शिक्षा प्रदान कर रही हैं।

गरिमा जी द्विभाषीय कवयित्री हैं, हिन्दी व अंग्रेजी दोनों भाषाओं म काव्य लेखन करती हैं।उनकी पहली कविताओं की किताब ‘सुलझे अनसुलझे जज्बात’ प्रकाशित हो चुकी है।

गरिमा जी की कविताओं का आज जो हम सभी ने सुना चन्द पंक्तियां प्रस्तुत हैं-
‘थोड़ी सी खामोश है, थोड़ी उलझी हुई
थोड़ी सी चहल पहल, थोड़ी है रुकी हुई’

‘अनमोल तोहफा मुझे मिला
शुभ दिन राखी का कुछ और खिला’

‘तुम्हारी आदत सी हो गयी है
हर गम और खुशी के तुम हो जिम्मेदार’

‘अजीब सा रंग घुला है इस हवा में
भागम भाग की लत है या है कोई रिवाज’


वह फुर्सत का एक कोना ढूढ़ती हूँ
वह फुर्सत की एक शाम ढूढ़ती हूँ’

गरिमा जी की लेखनी में उनके परिवार वालों से पूरा सहयोग मिला हुआ है, और आशा है उनकी लेखनी निरंतर चलती रहेगी, और हम उनके काव्य पाठ को भविष्य में सुनते रहेंगे।

सरिता त्रिपाठी
लखनऊ, उत्तर प्रदेश

This english news by google Translator

Poetry Garima Sudan from Bahrain gave a live presentation of her Hindi poems on Kavitri Sarita Tripathi’s Facebook page (@srtchem). Garima ji’s poems were heart touching and her reading was very clan compliments. The audience of the poets took the pleasure of their poems very heartily and encouraged them through their comments.

All the people in the audience were associated with Garima ji’s family and her friends also wholeheartedly recited the poems. Anjali ji, Nivedita ji, Pushpa ji, Deepti ji and Sarita ji, through their constant feedback, kept four moons in the program. Many people could not join the live due to some technical disruption, but all of them also enjoyed the recitation later.

Garima ji had the talent to write poetry since childhood and he met his father, Mr. Gurupal Singh Sudan ji, but last year he locked his skills from lock down. She is a teacher and imparts education in Bahrain.

Garima Ji is a bilingual poetess, writing poetry in both Hindi and English languages. Her first book of poems ‘Sulze Unsolved Emotion’ has been published.

The few lines which we all heard today of Garima ji’s poems are presented-
‘A little bit silent, a little confused
A little initiative, a little stalled ‘

‘I got the priceless gift
Good day, feed some more of Rakhi ‘

‘You have become a habit
You are responsible for every sorrow and happiness’

‘Strange color is dissolved in this air
Bhagam is part addiction or is there any custom ‘


She finds a corner of leisure
She seeks an evening of leisure ‘

The writing of Garima ji has full support from her family members, and it is hoped that her writing will go on continuously, and we will keep listening to her poetic text in the future.

Sarita Tripathi
Lucknow, Uttar Pradesh

Total Page Visits: 384 - Today Page Visits: 1

Spread the love

Leave a Reply

Top